मंत्री का पेपर फाड़ने वाले सांसद के निलंबन की मांग करेगी सरकार, आएगा विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव!

मंत्री का पेपर फाड़ने वाले सांसद के निलंबन की मांग करेगी सरकार, आएगा विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव!
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

नई दिल्ली
पेगासस विवाद पर सरकार और विपक्ष के बीच तकरार बढ़ती जा रही है। राज्यसभा में इस मसले पर गुरुवार को जबर्दस्त हंगामा हुआ। आईटी मिनिस्टर के हाथ से कागज छीनकर फाड़ने के मसले पर अब केंद्र सरकार तृणमूल कांग्रेस सांसद के सदन से निलंबन की मांग करेगी। बीजेपी भी तृणमूल कांग्रेस सांसद के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाएगी।

पेगासस जासूसी मामले पर टीएमसी सांसदों ने काटा बवाल
गुरुवार को भी टीएमसी और विपक्ष फोन टैपिंग के जरिए जासूसी के मसले पर आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए था। टीएमसी सांसद राज्यसभा में गुलाबी रंग का एक डमी फोन भी लेकर पहुंचे थे। जिसके जरिए यह दिखाने की कोशिश हो रही थी कि सरकार लोगों की जासूसी कर रही है। टीएमसी सांसद आसन के पास आकर अपना फोन भी लहराते दिखे। मामला तब ज्यादा बढ़ गया जब आईटी मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव पेगासस मसले पर राज्यसभा में अपना बयान पढ़ने लगे।

टीएमसी एमपी ने मंत्री के हाथ से पेपर छीन फाड़ा, टुकड़ों को हवा में उछाला
हंगामे के बीच वैष्णव बयान तो नहीं पढ़ सके लेकिन टीएमसी सांसद शांतनु सेन ने उनके हाथ से कागज लेकर फाड़ दिया। अब केंद्र सरकार टीएमसी सांसद के इस बर्ताव पर उनके निलंबन की मांग करेगी। केंद्र सरकार राज्यसभा सभापति से टीएमसी सांसद के दुर्व्यवहार के लिए उन्हें निलंबित करने का अनुरोध करेगी।

मंत्री हरदीप पुरी और टीएमसी सांसदों में आ गई हाथपाई तक की नौबत
बीजेपी का यह भी कहना है कि टीएमसी सांसद ने केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के साथ भी दुर्व्यवहार किया। जब आईटी मिनिस्टर के हाथ से कागज लेकर फाड़ा गया तो पुरी उनके पीछे थे और उन्होंने इसका विरोध किया। जिसके बाद टीएमसी सांसदों और हरदीप पुरी के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। ऐसा लगने लगा कि हाथापाई भी हो सकती है। बीजेपी का कहना है कि टीएमसी सांसद ने केंद्रीय मंत्री को असॉल्ट करने की कोशिश की। बीजेपी टीएमसी सांसद के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लेकर आएगी। टीएमसी सांसद भी राज्यसभा चेयरमैन से मिलकर अपना पक्ष रख चुके हैं।

पेगासस जासूसी मामला फेक न्यूज: सरकार
बीजेपी सदन के बाहर भी पेगासस मसले पर विपक्ष के आरोपों को खारिज करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है तो तो विपक्ष एकदम हमलावर है। बीजेपी सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा कि पेगासस जासूसी मामला फेक न्यूज है। इससे देश की छवि खराब हुई है। लेखी ने कहा कि सदन में कुछ सदस्यों ने मंत्री के हाथ से पन्ने छीन लिए, यह घटिया हरकत है। लेखी ने कहा कि इस तरह का व्यवहार लोकतंत्र में शर्मनाक है।

फोटो और समाचार साभार : नवभारत टाइम्स

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

WatchNews 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *