चीन ने भूटान के अंदर डोकलाम के पास बसाया गांव, मीडिया ने खुद ही खोल दी ड्रैगन की पोल – Watchnews24x7.com

चीन ने भूटान के अंदर डोकलाम के पास बसाया गांव, मीडिया ने खुद ही खोल दी ड्रैगन की पोल

चीन ने भूटान के अंदर डोकलाम के पास बसाया गांव, मीडिया ने खुद ही खोल दी ड्रैगन की पोल
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

दुनिया के कई देश चीन के विस्तारवाद से परेशान हैं और ड्रैगन इन आरोपों का खंडन करता रहा है। अब चीन के ही सरकारी मीडिया ने उसकी पोल खोल दी है। दरअसल, चीन के CGTN न्यूज के सीनियर प्रड्यूसर शेन शिवई तस्वीरें ट्वीट कर यह बताना चाहते थे कि डोकलाम के पास चीन ने कितना विकास कर डाला है। हालांकि, यह कदम उन्हें महंगा पड़ गया क्योंकि जिस जगह का वह जिक्र कर रहे थे वह भूटान की सीमा के अंदर आता है। भारत के लिए यह काफी अहम इलाका है क्योंकि साल 2017 में चीन और भारत की सेनाओं के बीच यहीं झड़प हुई थी। (Photo: NDTV)

Bhutan Village by China: चीन ने भूटान सीमा के अंदर गांव बसाया है जिसकी जानकारी वहां के सरकारी मीडिया ने मैप के साथ दे डाली है। अपनी पोल खुलने का एहसास होने के साथ ही चीन ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया।

चीन ने भूटान के अंदर डोकलाम के पास बसाया गांव, मीडिया ने खुद ही खोल दी ड्रैगन की पोल

दुनिया के कई देश चीन के विस्तारवाद से परेशान हैं और ड्रैगन इन आरोपों का खंडन करता रहा है। अब चीन के ही सरकारी मीडिया ने उसकी पोल खोल दी है। दरअसल, चीन के CGTN न्यूज के सीनियर प्रड्यूसर शेन शिवई तस्वीरें ट्वीट कर यह बताना चाहते थे कि डोकलाम के पास चीन ने कितना विकास कर डाला है। हालांकि, यह कदम उन्हें महंगा पड़ गया क्योंकि जिस जगह का वह जिक्र कर रहे थे वह भूटान की सीमा के अंदर आता है। भारत के लिए यह काफी अहम इलाका है क्योंकि साल 2017 में चीन और भारत की सेनाओं के बीच यहीं झड़प हुई थी। (Photo: NDTV)

शेयर कर डाला मैप
शेयर कर डाला मैप

शेन ने गुरुवार को एक गांव की तस्वीरें शेयर की थीं। उन्होंने अपने ट्वीट में बताया था कि यह डोकलाम का इलाका है। NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक यह गांव 2017 में भारत और चीन के बीच हुई झड़प की जगह से सिर्फ 9 किमी दूर है। यहां तक कि शेन ने पांगडा गांव का मैप भी शेयर कर डाला जो भूटान की सीमा के 2 किमी अंदर था। बाद में शेन ने यह ट्वीट डिलीट कर दिया। वहीं, ओपन इंटेलिजेंस सोर्स detresfa ने भी एक इमेज शेयर की है और ताजा गांव बसाने का दावा किया है। वहीं, रिपोर्ट्स में बताया गया है कि चीन ने यहां निर्माणकार्य पिछले साल ही शुरू कर दिया था।

डोकलाम के पास बसा गांव
डोकलाम के पास बसा गांव

NDTV की रिपोर्ट में शेन के शेयर किए गए मैप और वास्तविक स्थिति की तुलना की गई है। इसमें डोकलाम विवाद की जगह और ‘चीन के बसाए गांव’ भी दिखाए गए हैं। एक और मैप में बताया गया है कि भूटान के अंदर पूर्व में बसे इस गांव से सिक्किम पश्चिम में है, चीन उत्तर में। हालांकि, NDTV ने साफ किया है कि इस बारे में पुष्टि नहीं की जा सकती है कि भूटान ने चीन को इस इलाके में गांव बसाने की इजाजत दी है या नहीं और इस बारे में भूटान से सवाल किया गया है।

भारत के लिए खतरा?
भारत के लिए खतरा?

भारत को पहले से इस बात की चिंता सताती रही है कि चीन ऐसे कदम उठाकर धीरे-धीरे विस्तारवाद को अंजाम दे रहा है और अपनी सीमा को बढ़ा रहा है। वहीं, भूटान की क्षेत्रीय अखंडता को लेकर भी भारत की चिंता बरकरार है। यही नहीं, डोकलाम के करीब चीन के बढ़ते कदम पहले से लद्दाख में जारी तनाव को और गहरा सकते हैं। मई से चीन की PLA (पीपल्स लिबरेशन आर्मी) सीमा पर तैनात है और कई बार भारत से आमना-सामना हो चुका है।

नेपाल में जमीन पर कब्जा
नेपाल में जमीन पर कब्जा

दूसरी ओर, भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद ड्रैगन ने नेपाल की 150 हेक्‍टेयर जमीन पर कब्‍जा कर लिया है। चीन ने पांच मोर्चों पर इस साल मई महीने में नेपाल की जमीन पर कब्‍जा करना शुरू किया। नेपाल के नेताओं ने बताया कि नेपाली जमीन पर कब्‍जे के लिए चीन ने सीमा पर अपनी सेना PLA को तैनात करना शुरू कर दिया था। चीनी सेना ने लिमी घाटी और हिल्‍सा को पार किया और पत्‍थर के बने पिलर को हटा दिया। यही पिलर उखाड़कर उसे और ज्‍यादा नेपाली इलाके में पीछे कर दिया। इसके बाद चीनी सेना अब इस इलाके में सैन्‍य ठिकाना बना रही है। (तस्वीर: भूटान का गांव)

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

WatchNews 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *