पाक-चीन ने CPEC कर्ज पर US की आलोचना को टाला – Watchnews24x7.com

पाक-चीन ने CPEC कर्ज पर US की आलोचना को टाला

पाक-चीन ने CPEC कर्ज पर US की आलोचना को टाला
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

इस्लामाबाद
पाकिस्तान और चीन ने अरबों डॉलर की परियोजना ‘सीपीईसी’ और इससे जुड़े कर्ज को लेकर अमेरिका की आलोचना को शुक्रवार को दरकिनार कर दिया। उन्होंने कहा कि यह ऐसे दो देशों के बीच सहयोग की महत्वपूर्ण परियोजना है, जो सदा दोस्त रहे हैं। दक्षिण और मध्य एशिया के लिए अमेरिका के शीर्ष राजनयिक एलिस वेल्स ने बुधवार को कहा था कि ऐसे समय में जब दुनिया कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था के कई हिस्सों के बंद होने के आर्थिक परिणामों से जूझ रही है, चीन के लिए यह अपरिहार्य हो जाता है कि वह इस ‘उत्पीड़क, अस्थिर और अनुचित’ कर्ज का बोझ कम करे, जो पाकिस्तान को तकलीफ देने वाले हैं।

पाकिस्तान के कुल कर्ज के 10% से भी कम
वेल्स 60 अरब डॉलर की परियोजना ‘चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी)’ के आलोचक रहे हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने वेल्स की टिप्पणी का उत्तर देते हुए कहा कि सीपीईसी से जुड़ी परियोजनाओं का सम्मिलित कर्ज पाकिस्तान के कुल कर्ज के 10 प्रतिशत से भी कम है। मंत्रालय ने कहा, ‘इसके अलावा, चीन से प्राप्त सार्वजनिक ऋण की परिपक्वता अवधि 20 वर्ष है और ब्याज की दर 2.34 प्रतिशत है। यदि अनुदानों को शामिल किया जाता है, तो ब्याज दर लगभग दो प्रतिशत रह जाती है। सीपीईसी से संबंधित पाकिस्तान के ऋण दायित्वों पर टिप्पणीकारों और सार्वजनिक अधिकारियों द्वारा किए गए कुछ दावे तथ्यों के विपरीत हैं।’

से मिली है बड़ी मदद
बयान में कहा गया कि सीपीईसी एक लंबी अवधि की परियोजना है, जिसने ऊर्जा, बुनियादी ढांचे, औद्योगिकीकरण और रोजगार सृजन में विकास की खाई को पाटने में मदद की है। उसने कहा कि सीपीईसी चीन की बेल्ट ऐंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) की एक प्रमुख परियोजना है। यह एक परिवर्तनकारी परियोजना है जो पाकिस्तान के राष्ट्रीय विकास में सकारात्मक और पारदर्शी रूप से योगदान दे रही है। बीआरआई एक कई अरब डॉलर की पहल है, जो चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा 2013 में सत्ता में आने पर शुरू की गई थी।

भारत ने जताया है विरोध
इसका उद्देश्य दक्षिण पूर्व एशिया, मध्य एशिया, खाड़ी क्षेत्र, अफ्रीका और यूरोप को भूमि और समुद्री मार्गों के नेटवर्क से जोड़ना है। भारत ने सीपीईसी पर विरोध जताया है, क्योंकि यह परियोजना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरती है। बीजिंग में, चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने अमेरिका पर चीन और दक्षिण एशियाई देशों के बीच पारस्परिक रूप से लाभप्रद सहयोग को बाधित करने का आरोप लगाया। वेल्स की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए झाओ ने कहा कि उनकी टिप्पणियां अमेरिका की ‘संकीर्ण मानसिकता और पूर्वाग्रह को दर्शाती हैं।’

चीन के दूतावास ने भी खारिज किया
उन्होंने कहा, ‘चीन और दक्षिण एशियाई देश अच्छे पड़ोसी, अच्छे दोस्त और अच्छे साथी हैं। आपसी सम्मान, समानता और संयुक्त विकास के साथ, हम इन देशों को उनकी विकास क्षमताओं को बढ़ाने में मदद करते हैं। उनकी जरूरतों के आधार पर, हम वित्तीय सहायता प्रदान करते हैं और सहयोग परियोजनाएं शुरू करते हैं। हम कभी भी उन पर थोपते नहीं हैं और न ही इससे राजनीति जोड़ते हैं। हमने उन्हें कभी भी कुछ भी साबित करने के लिए नहीं कहा।’ इस्लामाबाद में स्थित चीनी दूतावास ने भी वेल्स की टिप्पणी को गुरुवार को खारिज किया।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

WatchNews 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *