चीन के कोरोना वायरस वैक्सीन सुरक्षित नहीं, आपात इस्तेमाल के दौरान बीमार पड़े लोग – Watchnews24x7.com

चीन के कोरोना वायरस वैक्सीन सुरक्षित नहीं, आपात इस्तेमाल के दौरान बीमार पड़े लोग

चीन के कोरोना वायरस वैक्सीन सुरक्षित नहीं, आपात इस्तेमाल के दौरान बीमार पड़े लोग
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

पेइचिंग
चीन के की सुरक्षा और असर को लेकर अभी से सवाल उठने शुरू हो गए हैं। कुछ दिनों पहले चीन ने अपनी वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की अनुमति दी थी। इस दौरान कई लोगों ने सिरदर्द, चक्कर आना और उल्टी जैसी शिकायतें दर्ज करवाई हैं। वहीं, राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस वैक्सीन को लेकर यूएन के मंच से भी बड़ा ऐलान कर आए हैं। चीन के सदाबहार दोस्त पाकिस्तान में भी इस वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल जारी है।

चीन के प्रसिद्ध लेखक ने बताया अनुभव
चीन के जानेमाने लेखक एवं स्तंभकार कान चाई को देश में आपातकालीन उपयोग के लिए स्वीकृत कोविड-19 के टीके की पहली खुराक पर तो कुछ नहीं हुआ, लेकिन दूसरी डोज के बाद उन्हें चक्कर आने लगे। चाई ने इस महीने की शुरुआत में एक वेबिनार में कहा कि जब मैं गाड़ी चला रहा था तो अचानक मुझे चक्कर आने लगे। ऐसा लगा कि मैं नशे में गाड़ी चला रहा हूं। मैंने एक जगह देख कर कार रोकी, थोड़ा आराम किया और तब मुझे बेहतर लगा।

हजारों लोगों ने दर्ज करवाई शिकायत
चीन में चाई की तरह ही हजारों लोगों को आम इस्तेमाल के लिए अंतिम नियामक स्वीकृति मिलने से पहले चीनी वैक्सीन की डोज दी गई है। इस कदम को लेकर आचार संहिता और सुरक्षा संबंधी सवाल उठ रहे हैं। इससे पहले चीनी कंपनियां ह्यूमन ट्रायल से पहले अपने शीर्ष पदाधिकारियों और रिसर्चर्स को जांच के लिए वैक्सीन की खुराक देने पर सुर्खियों में आई थीं।

वैक्सीन की दोबारा जांच कर सकता है चीन
चीन के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि चीन को महामारी को वापस आने से रोकने के लिए कदम उठाने होंगे। एक बाहरी विशेषज्ञ ने ऐसे समय में वैक्सीन के आपात उपयोग की जरूरत पर सवाल खड़ा किया है जब देश में वायरस का संक्रमण अब नहीं फैल रहा है। माना जा रहा है कि चीन फिर से अपनी वैक्सीन की सुरक्षा संबंधी जांच को शुरू करेगा।

चीन की कौन सी वैक्सीन खतरनाक, खुलासा नहीं
चीन में इस समय कोरोना वायरस की तीन वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल के अलग-अलग स्टेज में हैं। चीन की सरकारी कंपनी Sinopharm ने कोरोना वायरस के इनऐक्टिवेटेड पार्टिकल्‍स का इस्‍तेमाल करके दो-दो वैक्‍सीन बनाई हैं। पार्टिकल्‍स को इनऐक्टिवेट इसलिए किया जाता है ताकि वह बीमारी न फैसला सकें। जून में कंपनी ने कहा था कि फेज 1 और 2 ट्रायल में वैक्‍सीन सारे वॉलंटियर्स में ऐंटीबॉडीज तैयार करने में सफल रही। वहीं चीन की चीनी कंपनी CanSino Biologics ने भी एक कोरोना वायरस वैक्सीन को विकसित किया है।

सेना के साथ मिलकर बनाई वैक्सीन
इंसानों पर दूसरे चरण के ट्रायल में CanSino की Ad5-nCOV वैक्सीन सुरक्षित और असरदार पाई गई है। इसे दिए जाने पर वॉलंटिअर्स में इम्यून रिस्पॉन्स देखा गया। ये नतीजे सोमवार को मेडिकल जर्नल The Lancet में प्रकाशित हुए हैं। ये वैक्सीन अडेनोवायरस टाइप 5 (adenovirus type-5, Ad5) वायरल वेक्टर से बनी है। CanSino Biologics चीन की मिलिट्री की रिसर्च यूनिट के साथ मिलकर इसे बना रही है। इस वैक्सीन का ट्रायल चीन के वुहान में किया गया था।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

WatchNews 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *