चीन बोला- नेपाल को दिया बराबरी का दर्जा – Watchnews24x7.com

चीन बोला- नेपाल को दिया बराबरी का दर्जा

चीन बोला- नेपाल को दिया बराबरी का दर्जा
Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

पेइचिंग
भारत और नेपाल के बीच जारी तनातनी के बीच चीन अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने की कोशिश कर रहा है। नेपाल के साथ राजनयिक संबंधों की 65वीं वर्षगांठ के मौके पर चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि उन्होंने इस हिमालयी देश को हमेशा से बराबरी का दर्जा दिया है। चीन ने हमेशा नेपाल की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और राजनीतिक स्वतंत्रता का सम्मान किया है। चीनी राष्ट्रपति का यह बयान नेपाल में जारी राजनीतिक तनाव के बीच अहम मानी जा रही है।

नेपाल के साथ द्विपक्षीय संबंध बढ़ाएगा चीन
इस अवसर पर नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी को शुभकामना संदेश देते हुए जिनपिंग ने कहा कि वह दोनों पड़ोसी देशों के लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचाने के लिए काम करने को तैयार हैं। चीन के राष्ट्रपति ने कहा कि चीन-नेपाल संबंधों को वह काफी महत्व देते हैं और अपनी नेपाली समकक्ष भंडारी के साथ काम करने के लिए इच्छुक हैं, ताकि द्विपक्षीय संबंध लगातार आगे बढ़ते रहें।

जिनपिंग बोले- हमने एक दूसरे का सम्मान किया
सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन (सीपीसी) महासचिव शी ने कहा कि राजनयिक संबंध स्थापित होने के बाद से दोनों देशों ने हमेशा एक-दूसरे का सम्मान किया है। उन्होंने यह भी कहा कि चीन और नेपाल ने एक-दूसरे को बराबर माना है, परस्पर राजनीतिक विश्वास को बढ़ाया है और परस्पर सहयोग को और मजबूत किया है। माना जा रहा है कि चीन समर्थक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की सत्ता पर पकड़ को मजबूत करने के लिए जिनपिंग ने ये बयान दिए हैं।

ओली और चीनी प्रधानमंत्री के बीच भी शुभकामनाओं का दौर
शिन्हुआ ने राष्ट्रपति के हवाले से बताया कि उन्होंने और भंडारी ने पिछले वर्ष एक-दूसरे देश का दौरा किया था और द्विपक्षीय संबंधों को विकास और समृद्धि की दोस्ती में तब्दील किया। शी ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दोनों देश एकजुट रहे हैं और चीन तथा नेपाल के बीच दोस्ती का नया अध्याय लिखा। चीन के प्रधानमंत्री ली किकियांग और नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने भी एक दूसरे को शुभकामनाएं दी।

नेपाल ने चीन की वन चाइना पॉलिसी का किया समर्थन
नेपाल के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि सदियों से सौहार्दपूर्ण दोस्ती पर प्रकाश डालते हुए प्रधानमंत्री ओली ने कहा कि नेपाल ने एक चीन नीति (One China Policy) को हमेशा माना है और चीन ने हमेशा नेपाल की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और राजनीतिक स्वतंत्रता का सम्मान किया है। नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने चीन के विददेश मंत्री वांग यी को दिए संदेश में द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूत करने में वांग की भूमिका की प्रशंसा की। वांग ने भी संचार और सहयोग को मजबूत करने के लिए ग्यावली के साथ मिलकर काम करने की इच्छा जताई।

चीन की जाल में फंसा नेपाल
नेपाल और चीन के बीच एक अगस्त 1955 को राजनयिक संबंध स्थापित हुए थे। हाल के वर्षों में नेपाल में चीन की राजनीतिक दखल बढ़ी है, जिसके लिए बीजिंग ने बेल्ट एंड रोड पहल (बीआरआई) के तहत अरबों डॉलर का निवेश किया है। इसके अलावा काठमांडू में चीन की राजदूत हाऊ यांकी ने ओली के लिए समर्थन जुटाने का खुलेआम प्रयास किया है, जिन्हें पार्टी के अंदर बगावत का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही में हाऊ ने प्रचंड एवं अन्य नेताओं से मुलाकात कर ओली का समर्थन करने का आग्रह किया था, लेकिन प्रधानमंत्री के खिलाफ विरोध कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

देश-दुनिया और आपके शहर की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

WatchNews 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *